आदिकाल की सिद्ध काव्य धारा के कवि और उनकी रचनाएँ

सिद्ध साहित्य : सिद्धों की संख्या ८४ मानी गई है । अधिकांश सिद्धों के नाम के पीछे पा जुड़ा हुआ है । इनकी भाषा मगही है । भक्ति काल की कई प्रवृत्तियों का जन्म सिद्ध साहित्य में ही हुआ है । रुढ़ियों का विरोध और अक्खड़पन सिद्धों की ही देन है । योग साधना के क्षेत्र में भी इनका प्रभाव है । कृष्ण भक्ति की मूल प्रवृत्तियों का जन्म भी यहीं से दिखाई देता है । आइए आज प्रमुख सिद्ध कवियों की रचनाओं को सूचीबद्ध करते हैं :-

  1. सरहपा : दोहाकोश, उपदेश गीति, द्वादशोपदेश, डाकिनीगुहयावज्रगीति, चर्यागीति, चित्तकोष अजव्रज गीति । इनके कुल ३२ ग्रंथ हैं ।
  2. शबरपा : चर्यापद, सितकुरु, वज्रयोगिनी, आराधन-विधि ।
  3. लुइपा : अभिसमयविभगं, तत्वस्वभाव दोहाकोष, बुद्धोदय, भगवदअमभिसय, लुइपा-गीतिका ।
  4. डोभ्भिपा : अक्षरद्विकोपदेश, डोंबि गीतिका, नाड़ीविंदुद्वारियोगचर्या । इनके कुल २१ ग्रंथ हैं ।
  5. कण्हपा : योगरत्नमाला, असबधदृष्टि, वज्रगीति, दोहाकोष, बसंत तिलक, कान्हपाद गीतिका ।
  6. दारिकपा : तथतादृष्टि, सप्तमसिद्धांत, ओड्डियान विनिर्गत-महागयह्यातत्वोपदेश ।
  7. शांतिपा : सुख दुख द्वयपरित्याग ।
  8. तंतिपा : चतुर्योगभावना ।
  9. विरुपा : अमृतसिद्ध, विरुपगीतिका, मार्गफलान्विताव वादक ।
  10. भुसुकपा : बोधिचर्यावतार, शिक्षा-समुच्चय ।
  11. वीणापा : वज्रडाकिनी निष्पन्नक्रम ।
  12. कुकुरिपा : तत्वसुखभावनासारियोगभवनोपदेश, स्रवपरिच्छेदन ।
  13. मीनपा : बाहयतरंबोधिचितबंधोपदेश ।
  14. महीपा : वायुतत्व, दोहा गीतिका ।
  15. कंबलपाद : असबध दृष्टि, कंबलगीतिका ।
  16. नारोपा : नाडपंडित गीतिका, वज्रगीति, ।
  17. गोरीपा : गोरखवाणी, पद-शिष्य दर्शन
  18. आदिनाथ : विमुक्त मर्जरीगीत, हुंकारचित बिंदु भावना क्रम ।
  19. तिलोपा : करुणा भावनाधिष्ठान, महा भद्रोपदेश ।
  20. चटिल
  21. धामपा
  22. डरीगुप्पा
  23. जयनदीपा
  24. ताड़कपा
  25. ककंणपा
  26. ढ़ेढ़णपा
  27. भद्रपा
  28. कमरीपा
  29. गुण्डरीपा
अन्य सिद्ध कवियों की रचनाएँ बहुतायत या तो अप्राप्य हैं या प्राप्य भी हैं तो प्रक्षिप्त ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

आदिकाल के प्रमुख कवि और उनकी रचनाएँ

रीतिकाल की प्रवृत्तियाँ

छायावाद की प्रवृत्तियां