आदिकालीन साहित्य के पतन के कारण

हर युग में साहित्यिक प्रवृत्तियाँ बदलती रहती हैं । आदिकालीन साहित्य के पतन के लिए निम्न कारण प्रमुख रहे :
  1. अतिश्योक्तिपूर्ण वर्णन
  2. राजाओं का यशोगान व स्तुतिगान ही प्रमुख लक्ष्य
  3. राष्ट्रीयता का अभाव
  4. सामान्य जन जीवन की उपेक्षा
  5. कल्पना की अधिकता
  6. ऐतिहासिकता का अभाव
  7. प्रामाणिकता का अभाव
  8. संदिग्धता

टिप्पणियाँ

  1. औजर आजकल के साहि‍त्‍य के पतन का क्‍या कारण है ?

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

आपकी टिप्पणी का इंतजार है।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

आदिकाल के प्रमुख कवि और उनकी रचनाएँ

रीतिकाल की प्रवृत्तियाँ

छायावाद की प्रवृत्तियां